Blogs

Women Health Tips - Common Woman Disease

11-May-2017 11:16

महिलाओं में अपने स्वस्थ्य के प्रति जागरूकता लाने के लिए भारत में जे जे इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस (JJIMS) जैसे एडवांस्ड मेडिकल हॉस्पिटल्स हैं जो महिलाओं के आम व जटिल रोगों को दूर करने में पूरी तरह सक्षम हैं । आइए इस अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर जानें कुछ आम स्त्री रोगों और समस्याओं के बारे में जिनसे हर महिला को कभी न कभी गुज़ारना पढता है, और जाने कैसे आप इन के प्रति जागरूक हो अपना ध्यान रख सकती हैं :

 

  1. मासिक धर्म के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग : यदि मासिक के समय अत्यधिक ब्लीडिंग (Menorrhagia) होती है तो इसे अनदेखा न करें । यह एक आम स्त्री रोग है; इसका एक कारण हॉर्मोन्स का असंतुलन हो सकता है । यूटेरस में फाइब्रॉइड्स की उपस्थिति भी इसका एक कारण है | यूटेरस या फॉलोपियन ट्यूब्स में इन्फेक्शन के कारण भी अत्यधिक रक्तस्राव हो सकता है |

 

कैसे रखें ध्यान: ऐसा होने पर अपने डॉक्टर से तुरंत सलाह लें | आइस पैक को अपने पेट के निचले हिस्से पर रखने से आप कुछ राहत महसूस कर सकती हैं |

 

  1. मासिक का अनियमित होना : यदि आपके मासिक धर्म की साइकिल रेगुलर नहीं है तो इसे नज़रअंदाज़ न करें । तुरंत अपने चिकित्सक को दिखाएँ । ‘अनियमित’ से यहाँ मतलब पीरियड्स का 21 दिन से पहले या 35 दिन के बाद आना है या कम/अत्यधिक रक्तस्राव अथवा मासिक के दौरान अत्यधिक दर्द (Dysmenorrhea) महसूस होना है। कारण- थाइरोइड, तनाव, हॉर्मोन्स का असंतुलन, अनियंत्रित वजन, आदि |

 

कैसे रखें ध्यान: समय-समय पर अपने चिकित्सक से परामर्श लेती रहें । इन परेशानियों को अनदेखा न करें |

 

  1. यूरिनरी इन्फेक्शन : मूत्र त्याग के समय जलन, बारबार मूत्र आने का एहसास, पीठ एवं पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस होना, या मूत्र में दुर्गंध आना- ये सभी यूरिनरी इन्फेक्शन के लक्षण हैं । महिलाओं में यह एक आम समस्या है |

 

कैसे रखें ध्यान: शौच के बाद हमेशा आगे से पीछे की ओर सफाई करें । ऐसा करने से बैक्टीरिया द्वारा ब्लैडर के संक्रमण का ख़तरा कम हो जाता है | खूब पानी पीएं जिससे बैक्टीरिया मूत्र के साथ आपके शरीर से बाहर आ जाएँ । पर्सनल हाइजीन का विशेष ध्यान रखें |

 

  1. मीनोपॉज : मीनोपॉज वह अवस्था है जब महिला का मासिक समाप्त हो जाता है । यह कोई रोग नहीं बल्कि एक नार्मल फेज़ है ।भारतीय महिलाओं में मीनोपॉज लगभग 48 वर्ष की उम्र में होता है | प्रीमैच्योर मीनोपॉज अर्थात समय से पहले मासिक का बंद होना आजकल महिलाओं में तेज़ी से बढ़ रहा है । थाइरोइड, धूम्रपान, पुअर हेल्थ एवं महिलाओं में संतुलित आहार की कमी इसके प्रमुख कारण हैं |

 

कैसे रखें ध्यान: मीनोपॉज के समय स्पाइसी एवं तले-भुने खाने से परहेज करें । फल एवं हरी सब्ज़ियों का प्रचुर मात्रा में सेवन करें । | प्रीमैच्योर मीनोपॉज से बचने ले लिए अपने वजन को बढ़ने न दें, नियमित एक्सरसाइज करें, शराब का सेवन एवं धूम्रपान न करें तथा संतुलित आहार लें जिसमें एंटी ऑक्सीडेंट्स प्रचुर मात्रा में हों |

 

हम सभी महिलाओं के स्वस्थ्य के प्रति जागरूक हो समय-समय पर अपने चिकित्सक से परामर्श लें एवं अपनी परेशानियों को अनदेखा न कर अपने डॉक्टर से बेझिझक बात करें एवं सलाह लें । कुछ समस्याएं जिन्हें महिलाएं आम समझती हैं वास्तव में किसी रोग का सूचक हो सकती हैं । जे जे इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस (JJIMS) का कार्य इस दिशा में एक सराहनीय कदम हैं |

   Back to Blog